उन्नाव रेप पीड़िता को ट्रामा सेंटर देखने पहुँचे अखिलेश यादव,बोले- पीड़ित बहन को न्याय दिलाकर रहूँगा !

0
2

उन्नाव : उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में जहाँ कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त है, वहीँ पेशेवर अपराधी और अपराधी प्रवर्ति वाले नेता मस्त हैं। यूपी में हर रोज हो रहीं दर्जनों बलात्कार,हत्या और लूट के ताबड़तोड़ वारदातों से प्रदेश की जनता में भय का माहौल है तथा सूबे की महिलाओं में डर प्राप्त है। वहीँ उन्नाव का चर्चित कुलदीप सेंगर रेप मामला एक बार फिर सुर्खियों में है। गौरतलब है कि पीड़ित लड़की ने भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर पर अपने साथ 11 साल की उम्र से ही शारीरक शोषण और बलात्कार का मामला दर्ज कराया था, पीड़िता ने जब भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर पर बलात्कार का आरोप लगाया तब उसकी उम्र महज 17 वर्ष थी। बता दें कि पीड़िता के आरोप लगाने के बाद ही उसके पिता की पुलिस हिरासत में हत्या कर दी गयी थी तथा माखी गांव के एक गवाह की भी हत्या कर दी गयी थी। इसी क्रम में अब पीड़िता पर ही दुर्घटना का रूप देकर सरेआम जानलेवा हमला हो गया।

बता दें कि प्रथम दृष्टया साजिश लग रहे पीड़िता के साथ हुई दुर्घटना में पीड़िता की चाची, मौसी और कार ड्राइवर की मौत हो गयी तथा पीड़िता और उसके वकील की हालत गंभीर बनी हुई है। इस घटना के बाद से समाजवादी पार्टी पीड़िता के परिवार के साथ खड़ी है तथा पार्टी ने पीड़िता के इलाज का पूरा खर्च वहन करने की जिम्मेदारी ली है। मंगलवार को सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लखनऊ के ट्रामा सेंटर पहुँच कर डॉक्टरों से पीड़िता का हाल जाना तथा पीड़िता के परिजनों से मुलाकात की। इस दौरान अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा और कहा कि यूपी में कानून व्यवस्था बेहद खराब है, उन्नाव कांड के बाद यूपी की बहन-बेटियां डरी हुई है। अखिलेश यादव ने कहा कि इस घटना ने हम सबको झकझोर दिया है, पीड़िता जिंदगी की जंग लड़ रही है और अपराधियों की मददगार सरकार आरोपी को बचाने में लगी है। अखिलेश ने इस घटना के लिए उत्तर प्रदेश सरकार को जिम्मेदार ठहराया है और कहा कि सरकार का अपने बलात्कारी विधायक से इतना लगाव है कि भाजपा ने उसे अपनी पार्टी से निलंबित तक नहीं किया और पुलिस से लेकर सरकार तक कुलदीप सेंगर के कारनामों को छुपाने में कार्यत रही।

अखिलेश यादव के समझाने पर माना पीड़ित परिवार, ट्रामा सेंटर के बाहर अपने धरने को खत्म किया !

मंगलवार को पीड़िता का परिवार धरने पर बैठ गया और मामले में आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर सख्त कार्रवाई की मांग की। परिवार ने रायबरेली जेल में बंद पीड़िता के चाचा को छोड़ने की मांग की। उनका कहना है कि घर में अब कोई नहीं बचा है। इसलिए उन्हें पैरोल पर बाहर निकाला जाए।
पीड़िता की हालत बेहद गंभीर है। वह वेंटीलेटर पर है और हादसे के बाद से ही पिछले करीब 40 घंटे से बेहोश है। उसके सिर, सीने व पैर में कई फ्रैक्चर हैं। ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए लाइफ सपोर्ट का सहारा लिया जा रहा है। फेफड़ों से ब्लीडिंग हो रही है।
उधर, रायबरेली जेल में बंद पीड़िता के चाचा को पैरोल मिल गई है। वह कल (बुधवार) को रायबरेली जिला जेल से पैरोल पर उन्नाव जाएगा और पत्नी का अंतिम संस्कार कर कल फिर वापस रायबरेली जेल आ जाएगा।

कुलदीप सेंगर को पार्टी से निलंबित करने के सवाल पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष हुए मौन !

उन्नाव रेप पीड़िता के मामले में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि सरकार ने मामले में एक्शन लिया है, सीबीआई जांच हो रही है और विधायक जेल में हैं। लेकिन उन्होंने पार्टी से निलंबन या बर्खास्तगी को लेकर कोई भी जवाब नहीं दिया और बिना जवाब दिए निकल गए।

Loading...