मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले दो पूर्व विधायक बीजेपी से बाहर, देखें क्या है मामला !

0
584

जयपुर, राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के कार्यक्रम को अनदेखा करना पूर्व विधायक पर भारी पड़ गया। इसके चलते पार्टी ने पूर्व विधायक एवं पूर्व मिस राजस्थान प्रमीला कुंडारा को 6 साल के लिए पार्टी से बाहर का रास्त दिखा दिया।

अनुशासन समिति के सचिव श्रीकृष्ण पाटीदार ने बताया कि कुंडारा के साथ ही पूर्व एमएलए रामनारायण बेडा को भी पार्टी से बाहर कर दिया गया है। कुंडारा को मुख्यमंत्री की अनदेखी के चलते यह सजा मिली है। हालांकि पार्टी का कहना है कि वह लगातार पार्टी के कार्यक्रमों से बाहर थीं, साथ ही पिछले विधानसभा चुनाव में बागी होकर पार्टी के उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ीं थी। जिसका खामियाजा कुंडारा को बीजेपी से बाहर निकलकर चुकाना पड़ा है।

आपको यह भी बता दें कि 4 दिन पहले वसुंधरा राजे के द्वारा बीजेपी के विस्तारक योजना के तहत जनसंपर्क कार्यक्रम की शुरुआत की गई थी। यह कार्यक्रम बीजेपी के शहर अध्यक्ष संजय जैन के घर पर किया गया था। उनके घर के नजदीक ही दो मकान छोड़कर कुंडारा का भी घर है पर मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में कुंडारा नहीं आईं थीं। कार्यक्रम के दौरान वो अपने मकान की बालकनी में खड़ी होकर पानी पी रहीं थी।

आपको बता दें कि, चाकसू विधानसभा सीट से साल 2008 में बीजेपी के टिकट पर चुनाव जीतकर कुंडारा पहली बार विधानसभा पहुंची थीं। लेकिन 2013 के विधानसभा चुनाव में उनका टिकट काट दिया गया था। इतना ही नहीं भाजपा ने अपनी सिटिंग विधायक कुंडारा को दूसरी जगह से भी टिकट नहीं दिया था।

टिकट कटने पर उन्होंने बागी होकर पार्टी उम्मीदवार के खिलाफ ही चुनाव लड़ा। हालांकि वो चुनाव हार गईं थी, लेकिन इसके बाद वो पार्टी के कार्यक्रमों से दूर हो गईं। पार्टी के अनुसार यही कारण है कि उनको पार्टी से बाहर किया गया है। मगर बड़ा सवाल यह है कि यदि बागी होकर चुनाव लड़ना ही निष्कासन का आधार होता, तो यह कार्यवाही करीब 4 साल बाद क्यों की गई?

Loading...