किसानों पर लच्छेदार भाषण देने वाले मुख्यमंत्री योगी “अन्न” भगवान का सम्मान करते हुये !

0
0

 

लखनऊ : उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री योगी जी यूँ तो अपने भाषणों में बात किसानों की करते हैं, पर आज उन्होंने भगवान् कहे जाने वाले “अन्न” का ही घोर निरादर कर दिया, जब वह गेहूं के ऊपर जूता पहन कर खड़े हो गये और गेहूं को हाथ में लेकर अपने साथ गए अधिकारियों और नेताओं से विचार-विमर्श करने लगे। योगी जी के अलावा वहां मौजूद सभी लोगों ने “अन्न” का निरादर किया और अपने जूतों से अन्न को कुचलते रहे।

Image may contain: 5 people, people standing
“अन्न” भगवान पर जूते पहन कर खड़े मुख्यमंत्री योगी जी !

बता दें कि भाजपा के नेताओं और सरकारों के जिम्मेदार लोगों ने समय-समय पर किसानों का सिर्फ मजाक उड़ाया है, इसी कड़ी में सबसे बड़ा मजाक बना किसान “ऋण मांफी योजना” जिसमे योगी सरकार ने ऋण मांफी के नाम पर किसानों को 1 पैसे और 10 पैसे मांफ करने के प्रमाण पत्र बातें हैं जबकि लेखपालों आदि ने खुलेआम भ्रष्टाचार करते हुए गरीब किसानों से रिपोर्ट लगवाने के नाम पर 200-300 रुपये की घूस तक ले डाली। वहीँ भाजपा के मंत्री कहते हैं कि किसान तो पैदा ही मरने के लिए हुआ है तथा अरुण जेटली जैसे वरिष्ठ नेता कहते हैं कि “किसान सरकार से कर्ज मांफी की आशा बिलकुल ना रखे”।

एक रिपोर्ट के अनुसार उत्तर प्रदेश के अकेले बुंदेलखंड में कई किसानों ने कर्ज के बोझ के कारण आत्महत्या की है, वहीँ ताजा खबर के अनुसार देवरिया जिले में दो मासूम बच्चों की भूख से बिलख कर मौत होने का हैरतअंगेज मामला सामने आया है। वहीँ महाराष्ट्र,राजस्थान,ओड़िसा,तमिलनाडु और मध्य प्रदेश समेत पूरे देश में हजारों किसानों ने आत्महत्या की है,जबकि केंद्र की मोदी सरकार किसानों की मदद को छोड़ कर बड़े-बड़े उद्योगपतियों के कर्जों को मांफ करने में लगी हुई है।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री योगी ने कुछ दिनों पहले अपने बयान में राहुल गाँधी और अखिलेश यादव के बारे में कहा था कि वो लोग किसान नहीं हैं,जबकि अखिलेश यादव का आधा परिवार आज भी किसानी करता है और अखिलेश यादव खुद भी किसान परिवार से आते हैं। खैर अब शायद योगी जी को बताना होगा कि “अन्न” पर पैर रखने वाले लोग किसान कहलाता है या “योगी”।

Loading...