सहारनपुर में भड़की हिंसा, SSP आवास के सीसीटीवी और नेम प्लेट तोड़े, DM और SSP ने भागकर बचाई जान

0
127
Loading...

लखनऊ, बिना अनुमति के सहारनपुर में जनकपुरी थाना क्षेत्र के गांव सड़क दूधली में अंबेडकर जयंती पर शोभायात्रा निकाली जा रही थी। यह शोभायात्रा सड़क दूधली गांव के पास ही पहुंची थी कि कुछ लोगों ने इसका विरोध करते हुए इसे बीच में ही रोक दिया। यहां दोनों पक्ष भिड़ गए। इसके बाद देखते ही देखते दोनों तरफ से पथराव शुरू हो गया, जिसमें मौके पर अफरातफरी मच गई। इस दौरान कई वाहनों में तोड़फोड़ की गई। स्थिति बिगड़ते देख पड़ोसी जिलों से भी अतिरिक्त फोर्स बुला ली गई है।

घटना की जानकारी होने सांसद राघव लखन पाल शर्मा और पूर्व विधायक सहित बड़ी संख्या में भाजपा नेता भी वहां पहुंच गए। इस दौरान उन्होंने शोभा यात्रा को उसी रास्ते पर दोबारा ले जाने की मांग शुरू कर दी।

मौके पर पहुंचे डीएम शफकत कमाल और एसएसपी लव कुमार ने बताया कि यहां शोभायात्रा निकालने पर पहले से ही प्रतिबंध है बावजूद इसके ये शोभायात्रा निकाली गई। उन्होंने बताया कि प्रशासन ने इस यात्रा की परमीशन नहीं दी थी। मौके पर पहुंची पुलिस ने हिंसा पर काबू पाने की कोशिश की इस दौरान पुलिस को भी पथराव से जूझना पड़ा।

घटना से गुस्साए लोगों ने एसएसपी आवास पर प्रदर्शन किया, इस दौरान बीजेपी नेताओं लोगों के साथ मिलकर एसएसपी आवास के सीसीटीवी, नेम प्लेट भी तोड़ दिए। वहीं कुछ लोगों ने हाईवे पर आगजनी करनी शुरू कर दी, जिसमें कई किलोमीटर लंबा जाम लगा गया। कई लोगों ने कुछ दुकानों में भी तोड़फोड़ की और सामान लूट लिया है। इस दौरान पथराव के चलते डीएम और एसएसपी ने भागकर अपनी जान बचाई। इस दौरान पुलिस के भी कई वाहनों में तोड़फोड़ की गई। कमिश्नर की गाड़ी पर भी पथराव किया गया।

पथराव में पुलिस सहित 10 लोग गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं। इसमें घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था दलजीत चौधरी ने कहा कि स्थिति नियंत्रण में है। उनका कहना है कि वहां शोभा यात्रा को लेकर अनुमति नहीं दी गई थी। घटना में जो भी दोषी हैं, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाइ की जाएगी।

Loading...