मुसीबत में नरसिंह यादव, वाडा का नाडा के डोपिंग मामले में क्लीनचिट मानने से इनकार

0
18
Loading...

रियो ओलंपिक में भारत के हाथ अब तक कोई मैडल नहीं आ सका है, भारत के लिए कुश्ती में पदक की उम्मीद नरसिंह यादव से लगी हैं। वहीं वाडा ने भारत के लिए नई मुसीबत खड़ी कर दी है।

रियो ओलंपिक में मुकाबले से पहले नरसिंह यादव फिर से मुसीबत से पड़ गए हैं क्योंकि वाडा ने डोपिंग मामले में क्लीनचिट मानने से इनकार कर दिया है।

अंतरराष्ट्रीय एंटी डोपिंग एजेंसी (वाडा) ने राष्ट्रीय एंटी डोपिंग एंजेसी (नाडा) के उस फैसले को मानने से इनकार कर दिया है जिसमें उन्हें डोपिंग के दोष से बरी कर दिया गया था और ओलंपिक में खेलने की अनुमति दे दी थी। उनके मुकाबले में भाग लेने को लेकर वाडा 18 को फैसला सुनाएगा, जबकि 19 को उनका मैच है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, वाडा नरसिंह पर 4 साल का प्रतिबंध भी लगा सकती है। वहीं नरसिंह ने वाडा से टेस्ट के लिए 2 दिन का समय मांगा है। उनका ओलंपिक में मुकाबला 18 अगस्त को होना है।

पहले खबर आई थी कि भारतीय पहलवान नरसिंह का डोप टेस्ट 19 अगस्त की बाउट के बाद किया जाएगा। फ्रीस्टाइल टीम के राष्ट्रीय कोच जगमिंदर सिंह ने यह बात कही थी। जगमिंदर ने कहा था, “बाउट से पहले उन्हें किसी टेस्ट से नहीं गुजरना होगा। नरसिंह का सैंपल 19 अगस्त के बाद लिया जा सकता है।”

डोपिंग प्रकरण से उबरने के बाद पहलवान नरसिंह ने रियो में कहा था कि वह अब बीती बातों को भूलकर अपना पूरा ध्यान 19 अगस्त को होने वाले कुश्ती मुकाबले पर लगाना चाहते हैं। नरसिंह बृहस्पतिवार को अपने कोच जगमाल के साथ यहां खेल गांव पहुंच गए।

74 किलो भारवर्ग में भारतीय पहलवान नरसिंह ने अपने पहले ट्रेनिंग सत्र से पहले कहा, कृपया मुझसे अतीत के बारे में बात न करें। मैं उस पर बात नहीं करना चाहता। मैं 19 अगस्त को अपने भारवर्ग के मुकाबलों के बाद बात करूंगा। रियो पहुंचने के बाद मैं काफी अच्छा महसूस कर रहा हूं। मैं अब देश के लिए मेडल जीतना चाहता हूं। मैं अपनी ओर से सौ प्रतिशत दूंगा।

Loading...