अयोध्या में CM योगी के पहुँचने से राजनितिक सरगर्मियाँ हुईं तेज,लड़ सकते हैं यहाँ से विधानसभा चुनाव !

0
103

 

 

अयोध्या : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार को अयोध्या पहुंच चुके हैं। आठ घंटे तय कार्यक्रमों में फैजाबाद से अयोध्या और अयोध्या से फैजाबाद दो बार अप-डाउन करेंगे। साढ़े नौ बजे अयोध्या पहुंचने के बाद योगी जी ने सबसे पहले हनुमानगढ़ी में पूजन और दर्शन क‌िए। योगी के वहां पहुंचते ही जय श्रीराम के नारे लगाए जाने लगे। इसके बाद रामलला के ल‌िए रवाना हो गए।

गौरतलब है कि कल बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी समेत 12 आरोपियों को राहत मिली है। सीबीआई की विशेष अदलात ने सभी आरोपियों को बीस हजार के निजी मुचलके पर जमानत मिली है।

वहीँ मुख्यमंत्री योगी सुबह 8.55 बजे हवाई पट्टी पर पहुंचने से लेकर शाम साढ़े पांच बजे तक के कार्यक्रम को लेकर यहां सुरक्षा के सख्त इंतजाम किए गए हैं। खासकर अयोध्या को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। मुख्यमंत्री विशेष सुरक्षा दस्ता देर शाम कार्यक्रम स्थलों की जांच-पड़ताल में जुटा रहा। सरयू में पीएसी की बाढ़ कंपनी उतारी गई है। जबकि जिले की फोर्स के अलावा छह एएसपी, 14 सीओ, 11 निरीक्षक, 60 उपनिरीक्षक, 6 महिला उपनिरीक्षक, 320 सिपाही, 35 महिला सिपाही, 9 यातायात निरीक्षक, 8 हेड कांस्टेबल यातायात, 37 यातायात आरक्षी समेत भारी संख्या में पीएसी व होमगार्ड की ड्यूटी लगाई गई है।

अयोध्या से चुनाव लड़ सकते हैं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ !

मुख्यमंत्री पद पर बने रहने के लिए उन्हें छह माह में विधानसभा या विधान परिषद में से किसी सदन का सदस्य बनना जरूरी है। कुछ दिनों से सियासी गलियारों में यह चर्चा तेज है कि समीकरण साधने और लोकसभा 2019 के मद्देनजर एजेंडे को धार देने के लिए गोरक्षपीठाधीश्वर योगी की नई कर्मभूमि अयोध्या भी हो सकती है। वे यहां से चुनाव लड़ सकते हैं। साथ ही अयोध्या पर भविष्य की राजनीति भी कर सकते हैं।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बुधवार को अयोध्या यात्रा कई संदेश देगी। साथ ही सूबे की सियासत के भावी समीकरणों का भी संकेत देगी। यह यात्रा भले ही फैजाबाद मंडल की कानून-व्यवस्था व विकास कार्यों की समीक्षा और श्रीराम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास के जन्मोत्सव की वजह से तय हुई हो, लेकिन यह यात्रा यहीं तक सीमित नहीं रहने वाली। इसके कई राजनीतिक निहितार्थ भी निकाले जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि इसका संबंध भविष्य में योगी की चुनावी यात्रा से भी जुड़ा हो सकता है।

भाजपा का कोई मुख्यमंत्री करीब 17 साल बाद अयोध्या में होगा। अयोध्या की भूमिका भाजपा की ताकत बढ़ाने में महत्वपूर्ण रही है। इसीलिए भगवा टोली के नेताओं के यहां आने के खास अर्थ रहे हैं। सीएम योगी अभी सांसद हैं।

Loading...