योगी का जंगलराज: दुष्कर्म के प्रयास की शिकायत करने पहुंची लड़की को जिंदा जलाया, पुलिस बनी वजह !

0
2

 

सीतापुर : यूपी की योगी सरकार अपराधियों पर अंकुश लगा पाने में पूरी तरह से फेल साबित हो रही है। एक ओर जहाँ सूबे में बढ़ते अपराधों ने पिछले 15 सालों के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है, वहीँ यूपी पुलिस अपराधों पर काबू पाने की जगह स्वयं अपराधियों का शिकार हो रही है। यूपी में हालात इस कदर खराब हैं कि पुलिस वालों की थाने के भीतर ही हत्या हो रही है। वहीँ यूपी के बुलन्दहर में आज भाजपा समर्थकों की फायरिंग में एक इंस्पेक्टर की मौत हो गयी है। बता दें कि सीतापुर जनपद के तंबौर में यूपी पुलिस की बड़ी लापरवाही के चलते छेड़छाड़ की पीड़िता एक लड़की को उसके गांव के ही दो लोग रामू व राजेश ने जिन्दा जला दिया। शनिवार की दोपहर करीब 12 बजे पीड़िता खेतों की ओर गई थी, जहाँ दोनों ने लड़की को दबोच लिया और उसके ऊपर केरोसिन उडे़ल कर आग लगाकर भाग गए। लपटों से घिरी युवती को देख ग्रामीणों ने किसी तरह आग बुझाई और उसे अस्पताल में भर्ती कराया ।

गौरतलब है कि पीड़िता लड़की के साथ 29 नवंबर को दुष्कर्म के प्रयास की घटना हुई थी, जिसके बाद उसने पुलिस में रामू पर दुष्कर्म का प्रयास की शिकायत दर्ज कराई थी। पीड़िता के बयान के अनुसार बीती 29 नवंबर को जब वह नित्यक्रिया के लिए गई थी तो रामू ने उसके साथ दुष्कर्म का प्रयास किया था। शोर मचाने पर ग्रामीणों को आता देख वह भाग गया। युवती ने इस घटना की तहरीर तंबौर थाने में दी मगर कोई कार्रवाई नहीं हुई। पुलिस की ओर से कार्यवाही ना होने पर पीड़िता 30 नवंबर को सीओ बिसवां से मिलने गई। इस बात से गुस्साए रामू ने राजेश के साथ मिलकर 1 दिसंबर को लड़की को जिंदा जला कर मारने का प्रयास किया। गंभीर रूप से झुलसी युवती का जिला अस्पताल में इलाज किया जा रहा है।

यूपी पुलिस की लापरवाही और शून्यता के नतीजतन बेखौफ आरोपियों ने एक दिसंबर की दोपहर खेत में युवती पर केरोसिन उड़ेलकर उसे जिंदा जला दिया। गनीमत रही कि ग्रामीणों ने समय रहते आग बुझाकर उसे अस्पताल पहुंचा दिया। दिनदहाड़े हुई इस दुस्साहसिक वारदात के बाद भी तंबौर पुलिस ने पीड़िता के पिता की तहरीर पर दोनों आरोपियों के खिलाफ छेड़छाड़ व हत्या के इरादे से हमला करने का केस तो दर्ज कर लिया, लेकिन 14 घंटे बाद तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी।

डीजीपी की फटकार के बाद जागी पुलिस !

सीतापुर के तंबौर थाना क्षेत्र में युवती को जिंदा जलाने की सनसनीखेज घटना को लेकर डीजीपी की फटकार के बाद एसपी ने दुष्कर्म के प्रयास की शिकायत पर कार्रवाई नहीं करने वाले एसओ तंबौर ओपी सरोज, हल्का इंचार्ज एसआई मनोज व मुंशी छेदीलाल को निलंबित कर दिया है। इसके साथ ही पुलिस ने दोनों आरोपियों रामू और उसके भाई को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार, दोनों आरोपियों पर एनएसए के तहत भी कार्रवाई की जाएगी। डीजीपी के निर्देश पर आईजी रेंज लखनऊ सुजीत पांडेय ने रविवार को सीतापुर पहुंचकर घटना के प्रत्येक बिंदु पर जांच-पड़ताल की। आईजी ने जांच रिपोर्ट डीजीपी को सौंपने की बात कही है।

Loading...