UP इनवेस्‍टर्स समिट में सामने आया फर्जीवाड़ा, 13 करोड़ की कंपनी से 90,000 करोड़ का MOU साइन कराया !

0
14

लखनऊ : उत्तर प्रदेश सरकार लगातार अपने फैसलों और कामों से विवादों में घिरती जा रही है, जहाँ आज तक यूपी की सड़कें गड्ढा मुक्त नहीं हो पा रही हैं। वहीँ प्रदेश बालू-मौरंग के दाम आज भी आसमान छू रहे हैं, जिससे आम आदमी और किसान सबसे ज्यादा पीड़ित है। हाल ही में हुए UP इनवेस्‍टर्स समिट में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है, योगी सरकार ने कोरिया की एक कंपनी के 90,000 करोड़ के निवेश के एलान पर सवाल उठे हैं।

बता दें कि इस कंपनी का नाम Worldbestech है, NDTV न्यूज़ चैनल के एक पत्रकार की जांच में पता चला है कि ये कंपनी खुद सिर्फ 13 करोड़ के वार्षिक टर्नओवर वाली है और योगी सरकार ने वाह-वाही लूटने के लिए इस कंपनी के नाम से 90,000 करोड़ का फर्जी MOU साइन कराया है । इस बारे में जब राज्य सरकार से सफाई मांगने की कोशिश की तो ज़्यादा जानकारी नहीं दी गई, हालांकि NDTV के कार्यक्रम के दौरान यूपी के उद्योग मंत्री सतीश महाना ने ऐसे किसी MOU से इनकार किया है। जबकि अपने पहले बयान में उन्होंने कहा कि सरकार सभी MOU की जांच कर रही है और उक्त कंपनियों के वास्तविक जानकारी जुटाने का काम कर रही है।

आपको बता दें कि यूपी इनवेस्‍टर्स समिट में के पहले दिन 1045 एमओयू साइन हुए थे, इसमें देश के टॉप-5 बड़े औद्योगिक घरानों ने मंच से यूपी में 1 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का निवेश करने का ऐलान किया था। इसके अलावा अलग-अलग सेशंस में देश और विदेश की कई कंपनियों ने राज्य सरकार के साथ प्रदेश में निवेश के लिए एमओयू साइन किए थे। लेकिन अब सामने आ रहे इन फर्जी MOU से, योगी सरकार के यूपी इनवेस्‍टर्स समिट की सचाई सामने आ रही है।

बता दें कि इस इनवेस्टर्स समिट के दौरान अडानी ग्रुप ने 35000 करोड़, रिलायंस ग्रुप ने जियो के जरिए 10 हजार करोड़, एस्सेल ग्रुप ने 18,750 करोड़ और बिड़ला ग्रुप ने 25000 करोड़ का यूपी में निवेश करने का फैसला किया था। योगी सरकार ने कहा था कि प्रदेश 4.28 लाख हजार करोड़ रूपये के निवेश से यूपी में रिकॉर्ड रोजगार आएगा, पर अब सामने आ रहे इन फर्जीवाड़े से सरकार की असली नियत सामने आ रही है ।

इस समिट के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था कि जब परिवर्तन होता है, तो सामने दिखता है। उत्तर प्रदेश में इतने व्यापक स्तर पर इन्वेस्टर समिट होना, इन्वेस्टर समिट में इतने निवेशकों और उद्यमियों का एकजुट होना, अपने आप में एक बड़ा परिवर्तन है। उन्‍होंने कहा कि मैं यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनके मंत्रिमंडल के उनके सहयोगियों, ब्यूरोक्रेसी, पुलिस, और उत्तर प्रदेश की जनता को बधाई देता हूं कि वो अपने उत्तर प्रदेश को इतने कम समय में समृद्धि और विकास के रास्ते पर ले आई है। उन्‍होंने कहा कि अब यूपी विकास के रास्‍ते पर है, हालाँकि यही बात उन्होंने यूपी चुनाव से पहले अखिलेश यादव के बारे में कही थी और उनके काम की जमकर तारीफ की थी, चुनाव आने पर अखिलेश यादव से ज्यादा कमियां किसी में नहीं थी, क्या देश के प्रधानमंत्री के लिए ऐसी राजनीति उचित है।

Loading...